अग्निकांड: मकान की खिड़कियों से निकल रहा धुआं, 4 अस्पतालों में इलाज जारी

नई दिल्ली। दिल्ली के अनाज मंडी इलाके में रविवार सुबह आग ने भीषण तांडव मचाया है। चार मंजिला इमारत में लगी आग में जलकर और धुएं में दम घुटने से दर्जनों लोगों की मौत हो गई है। मृतकों की संख्या लगातार बढ़ती जा रही है। अब तक 43 लोगों के मारे जाने की पुष्टि हो चुकी है। दर्जनों लोगों को लोकनायक जय प्रकाश (एलएनजेपी) अस्पताल, हिंदू राव और राम मनोहर लोहिया (आरएमएल) अस्पताल, लेडी हार्डिंग अस्पताल में भर्ती कराया गया है।

मौके पर पहुंची 30 दमकल गाड़ियों ने आग पर काबू पाया। राहत अभियान अभी भी जारी है। आग सुबह करीब 5 बजे लगी। उस समय मकान में अधिकतर लोग सो रहे थे। बाताया जा रहा है कि इस इमारत में छोटी-छोटी फैक्ट्रियां चलती थीं, जिनमें पैकेजिंग और प्लास्टिक बैग आदि बनाने का काम होता था। यहां काम करने वाले कई लोग रात को सोते भी यहीं थे। कई मजदूर बिहार और पूर्वी उत्तर प्रदेश के बताए हैं।

दिल्ली अग्निशमन सेवा के एक अधिकारी का कहना है कि आग लगने की जानकारी सुबह 5 बजकर 22 मिनट पर मिली। तुरंत दमकल की 30 गाड़ियों को घटनास्थल पर भेजा गया। मकान में फंसे कई लोगों को बाहर निकालकर अस्पताल ले जाया गया है। हालांकि, कई लोगों ने आग में झुलसकर दम तोड़ दिया तो कइयों का धुएं में दम घुट गया। घायल लोगों को एलएनजेपी और हिंदू राव अस्पताल में भर्ती कराया है।

दिल्ली के एलएनजेपी अस्पताल के मेडिकल सुप्रिटेंडेंट डॉ.किशोर कुमार ने कहा कि कई लोगों की मौत हो गई है। डॉक्टरों की टीम घायलों का इलाज कर रही है। दिल्ली फायर सर्विस के चीफ फायर ऑफिसर अतुल गर्ग भी मौके पर पहुंचे। मीडियाकर्मियों से बातचीत में उन्होंने कहा कि अब तक 50 लोगों को बचाया गया है। ज्यादातर लोग धुएं से प्रभावित हुए हैं।

डेप्युटी चीफ फायर ऑफिसर सुनील चौधरी ने मीडियाकर्मियों को बताया कि आग बुझा दी गई है। राहतकार्य जारी है। ऑपरेशन में दमकल के 30 वाहन लगे हुए हैं। मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने हादसे पर दुख जताते हुए कहा है कि राहत और बचाव कार्य जारी है। केजरीवाल ने ट्वीट किया, ‘आग लगने की खबर मिली है। बचाव कार्य जारी है और दमकलकर्मी लोगों को बचाने की सर्वश्रेष्ठ कोशिश कर रहे हैं। घटनास्थल पर बड़ी संख्या में दमकलकर्मी मौजूद हैं और फंसे हुए लोगों को निकालने में लगे हुए हैं। मकान की खिड़कियों से काला धुआं निकल रहा है जिससे जाहिर हो रहा है कि अंदर भीषण आग लगी थी। आग लगने की वजह का पता नहीं चल पाया है।

4 अस्पतालों में हो रहा इलाज
बहरहाल, निकाले गए लोगों को एलएनजेपी, सफदरजंग, हिंदूराव और आरएमएल अस्पतालों में पहुंचाया गया है। इन अस्पतालों का बर्न वॉर्ड घटना के शिकार लोगों से भर चुका है। इनके इलाज के लिए दूसरे अस्पतालों से भी डॉक्टरों को बुलाया है। एलएनजेपी, सफदरजंग समेत 4 अस्पतालों में घायलों का इलाज चल रहा है। नॉर्थ दिल्ली की डीसीपी मोनिका भारद्वाज भी मौके पर पहुंचीं। बिल्डिंग में अवैध रूप से फैक्ट्री चलाने के लिए बिल्डिंग मालिक के भाई को हिरासत में लिया जा चुका है। ऐम्बुलेंस की 70 गाड़ियां लोगों को अस्पताल पहुंचाने में जुटी थीं। वहीं, करीब 35 फायर ब्रिगेड टीमें राहत कार्य में जुट गई थीं। चार घंटे से ज्यादा वक्त से राहत कार्य चल रहा है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.